गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

बदलाव के प्रवर्तक

नकद निकालने की चाहत में बैंक से खाली हाथ लौटकर आने वाले का दर्द बयाँ करती है मेरी ये कविता —


आज़ तुम पैसा दो, दो।
कल भी मैं माँगूँगा
तुम बैंक हो, दाता हो
मेरे क्रेडिट डेबिट का हिसाब रखने वाले कलयुगी चित्रगुप्त !
मेरी जरूरत पर मेरा ही पैसा मुझे मत दो, मत दो।
केवल कुबेर, शाहों की तिजोरियों से निभाओ रिश्ता
मानते रहो 'यम की बात'

खाताधारियों के बूँद-बूँद जमा किये पैसों से बने विशाल छत्ते !
अपनी एटीएम मशीन खाली रखो, रखो
मैं अपनी फैमिली के दो-दो खातों में
दिवंगत सीनियर नोटों का
एक और छत्ता लगा जाउँगा।

स्थिति सामान्य होने को
माँगो तुम चाहे जो
50 दिन, 100 दिन, 365 दिन, दूँगा
तुम दोगे जोसहूँगा।
आज नहीं कल सही
कल नहीं साल बाद सही
मेरा तो नहीं है कुछ
सब कुछ आपका है
मेरी जमापूँजी, मेरा घर
मेरा भूखा पेट, मेरा सर।

वित्त-व्यवस्था के मुख्य प्रबंधक !
रिज़र्व बैंक के जनसभा प्रवक्ता !
ग्राहक-दुकानदारों को लालचभरी स्कीमों से रिझाने वाले कुशल बनिये !
बातें मत बनाइये, जल्दी से ... संतुलन बनाइये
बदलाव के प्रवर्तक, ‘एकला चलो रे’ नहीं गाते
इतिहास से लेते हैं सीख
न कि अपनी कमियाँ छिपाने को
ऐतिहासिक व्यक्तित्वों को आरोपित करते हैं।

ओ मन की बात के मंथली बुलेटिन !
मनी यहाँ, कहाँ कुछ है
मनमानी यहाँ सब कुछ है
मेरे धैर्य की पराकाष्ठा
मेरे मुख की उबकाई
मेरी प्राणवमन घुटी
-    मैं तुम्हें पहचान गया हूँ।
तुम्हीं ने बनाया है मुझे मनीमक्खी
तुम्हीं ने लगाया है मुझे कतार में।
‘आर्तनाद’, ‘चीख-पुकारें’
आपके चिल्लाहट भरे संबोधन-हुँकारों के समक्ष
घुटने टेक रही हैं।
आपका काला नोट’बंदी भैंसा
कतार में हुए शहीदों की लाशों पर ताण्डव कर रहा है।

ओ आत्ममुग्धता में सरोबार चमचमाते लोहपुरुष !
मैं आपकी भाग-दौड़, तंदरुस्ती का कायल हूँ
लेकिन अचानक हुए इस गोरिल्ला हमले में
सबके साथ घायल हूँ।
वीर तो बताकर हमला करते हैं।
देश के दुश्मनों से टक्कर लेने को क्या
दहशतगर्दों वाले तरीके अपनाओगे !
चोरों के भीड़ में लापता होने पर
क्या भीड़ पर कोड़े बरसाओगे !

देसी-विदेशी अभिनंदन समारोहों के गोल्ड मेडलिस्ट !
अचीवमेण्ट्स को गिनाने वाले स्टोरीटेलर !
आज तुम पैसा न दो, न दो
कल भी मैं माँगूँगा।

[ चित्र : गूगल से साभार ]

गुरुवार, 7 जुलाई 2016

जिम्मेदार नागरिक

बढ़ती भीड़ में 
पीछे धकेले  जाने के बावजूद 
करता हूँ अपनी बारी का 
लगातार इंतज़ार। 

नफ़रत फैलाती हरकतों पर 
ज़हर उगलते भाषणों पर 
खामोशी के साथ 
 देता हूँ सहिष्णुता का परिचय। 

जुल्म के खिलाफ उठती 
हर आवाज़ में 
मिला देता हूँ चुपचाप 
अपनी भर्रायी आवाज़। 

लाचारी में फैले 
हाथों को हिकारत से न देख 
देखता हूँ घोटाले बाजों को 
घृणा से अधिक, 
क्योंकि में हूँ 
भारत का एक जिम्मेदार नागरिक।

रविवार, 6 मार्च 2016

लाल सलाम

pratul1971@gmail.com


मुर्दे को हो गया ज़ुकाम
'इंशा अल्लाह' सुन पैगाम
       लाल सलाम, लाल सलाम।


जुटे जेएनयू में सब वाम
गद्दारी का पढ़ा कलाम
      लाल सलाम, लाल सलाम।


बोते बबूल चाहेंगे आम
मीठा माँगें नमक हराम
      लाल सलाम लाल सलाम।


हाथ हथौड़ा सड़कें जाम
चौपट धंधे, चौपट काम
      लाल सलाम, लाल सलाम।


भूख गरीबी लेकर नाम
आज़ादी करती व्यायाम
      लाल सलाम, लाल सलाम।


जेएनयू से नंदीग्राम
हुए इकट्ठे सभी हराम
      लाल सलाम, लाल सलाम।


चला कन्हैया थाम लगाम
रथ पर बैठे सीताराम
      लाल सलाम, लाल सलाम।

शुक्रवार, 1 जनवरी 2016

नया साल आया …

साभार गूगल

बिल्ली की प्रेयर पे
छींका टूट न पाया॥
नया साल आया …॥

नाथन के बुलउवा पे
कोई नाथ न आया॥
नया साल आया …॥

लिब्सिस ने इशारों पे
छू-मंतर खेल दिखाया॥
नया साल आया …॥

क्रिसमस इवेण्ट पे
अंजू और राजू ने
सेण्टा का रोल निभाया
नया साल आया …॥



फीडबैक मीटिंग में
रेगुलर व्यूअर्स ने
फीलबैड कराया॥
नया साल आया …॥

फंड-एयरशिप में
केवल सेवादारों ने
पैराशूट पाया॥
नया साल आया …॥    

[कार्यालय से प्रभावित कविता है। कुछ विलंब से नये साल की शुभकामनाएँ प्रेषित कर रहा हूँ। 'गत' पर टिप्पणी करते हुए 'भावी' के प्रति लालायित हूँ।]

मेरे पाठक मेरे आलोचक

Kavya Therapy

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
नयी दिल्ली, India
समस्त भारतीय कलाओं में रूचि रखता हूँ.