सोमवार, 2 जनवरी 2012

नया साल आया...

कोंग्रेसी लोकतंत्र में

आलोचना न सुनने को

ब्लॉग सदन से टिप्पणी का

ऑप्शन हटाया .................. नया साल आया.



डर कर उजाले से

उल्लुओं ने लक्ष्मी को

लोकपाल से दूर स्विस बैंक में

घर दिलाया. .................. नया साल आया.



अमित से मिर्ची जवाब ले

अनवर जमाल ने

एक से सवालों का

तोता-राग गाया. ................. नया साल आया.



बड़े ब्लॉग क्षत्रपों ने

आमजन की भौं-भौं से

बचने को कमेन्ट बॉक्स पर

बुलेट-प्रूफ कवर चढ़ाया .................. नया साल आया.



सगे और परायों में

'हाँ' में 'हाँ' वालों ने

विश्वासपात्र होने का

फिर सर्टिफिकेट पाया .................. नया साल आया.



आप्रवासी अनुराग ने

भावमयी सरिता की

तीव्र बहती धारा में

बिजली-संयंत्र लगाया .................. नया साल आया.



कुमार राधारमण ने

ब्रह्मचर्य-स्खलन को

विष्ठा-दबाव जैसी

नेचुरल वर्ब बताया. .................. नया साल आया.



रविकर ने छंदों में

ब्लॉग-ब्लॉग घूमकर

आम बातचीत को भी

अच्छे से गाया. .................. नया साल आया.

जारी....

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मेरे पाठक मेरे आलोचक

Kavya Therapy

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
नयी दिल्ली, India
समस्त भारतीय कलाओं में रूचि रखता हूँ.