मंगलवार, 29 मार्च 2011

प्रशंस-भोज


कलाकार का धर्म 
कला में कल की रचना करना. 
एक नया आकार बना कर 
कल को रंगी करना. 
बीते कल को सोच 
ध्यान से धीरे-धीरे चलना. 
क्षण-भंगुर सपनों में 
अपने नेत्र-निमीलन मलना. 
कलाकार-प्रतिभा का भूषण 
केवल भोग नहीं है. 
उसकी भी पाने की इच्छा 
प्रशंस-भोज रही है.

11 टिप्‍पणियां:

  1. कला और कलाकार दोनों का एक दुसरे में समा जाना कला का चरम सोपान है ...आपका आभार इस सार्थक रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. .

    अति सुन्दर काव्य रचना ।

    केवल-राम जी की टिपण्णी बहुत अच्छी लगी ।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रशंस भोज को आपने सुस्थापित किया!!

    इस भोज में केवल जी ने लड्डू मिष्ठान धरा है
    दिव्या जी नें बासूंदी रखी।
    यह झलेबी हमारी और से……

    समयानुकूल सार्थक अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुज्ञ जी ,
    बासूंदी कौन सा मिष्ठान है , कृपया विस्तार से बताएं ? क्या गुझिया को कहते हैं ? यूँ ही मन ललचा गया।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिव्या जी

    बासूंदी के लिये यह लिंक देखिये…।
    http://www.tarladalal.com/Basundi-633r

    उत्तर देंहटाएं
  7. .

    सुज्ञ जी ,

    आपके द्वारा दिए गए लिंक पर जाकर तरला जी से बासूंदी सीखी । ये भी जाना की उत्तर भारत में इसे 'रबड़ी' कहते हैं ।

    Many thanks.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  8. आभार दिव्या जी,

    आपने बासूंदी को मन बसाया!!

    सही प्रतीक है न……

    केवल जी नें कला और कलाकार को बांधने की बात की तो : लड्डू
    आपने अतिसुन्दर की बात की तो : रबड़ी (बासूंदी)

    और मैने आडी-टेडी बात की तो : झलेबी :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. .

    सुज्ञ जी ,

    लड्डू और बसूंदी तो ठीक उपमा दी , लेकिन आपके ऊपर जलेबी कुछ जंची नहीं। न तो आपकी बातें आदि-टेढ़ी होती हैं , न ही जलेबी की तरह लच्छेदार। मेरे विचार से आपके लिए शाही (Royal)- 'काजू-कतली' ( काजू की बर्फी) अधिक उपयुक्त है।

    Smiles..

    .

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे पाठक मेरे आलोचक

Kavya Therapy

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
नयी दिल्ली, India
समस्त भारतीय कलाओं में रूचि रखता हूँ.