बुधवार, 31 मार्च 2010

उदाहरण

मैं हूँ कामी
—अनुगामी
आगे चलती मम परिभाषा।

औ' परिभाषा पदचिह्नों पर
मैं उछलकूद करता जाता।

या कभी-कभी
छुक-छुक-छुक कर
इक छोर पकड़ परिभाषा का
अपने मित्रों को साथ लिए
इक छोर और निर्मित कर उनके हाथ दिए
पीछे-पीछे
दौड़े चलते परिभाषा के।

तब अकस्मात्
पाठक श्रोता
का ध्यान भंग होता
या, कर्षण
खींच-खींच
लदने की इच्छा करा
सीटियाँ — बजवाता।

4 टिप्‍पणियां:

  1. भाव स्पष्ट नहीं हो पा रहे प्रतुल जी ...कुछ प्रकाश डालिए ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उदाहरण महोदय कहते हैं कि
    "मैं उस परिभाषा का कामी और अनुगामी हूँ जिसका मैं (उदाहरण) हूँ।
    मुझसे आगे मेरी परिभाषा रहती है और उसके अनुसार ही मैं अपने स्वरूप को बनाता हूँ।
    कभी कभी हम एकाधिक संख्या में भी अपने अन्य भाइयों के साथ उस परिभाषा के पीछे-पीछे चलते हैं रेलगाड़ी की तरह से।
    सीटियाँ बजाने से तात्पर्य सुनने पढने वाले का ध्यान आकृष्ट करने के लिए हम ऐसा करते हैं. (pribhaashaa aur udaaharan ka maanviikaran)

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रतिक्रिया देने के चक्कर में शिष्टाचार भूल गया।
    नमस्ते हरकीतजी। ऐसे ही हिम्मत बढ़ाइयेगा।
    पूरी तरह फिर भी स्पष्ट नहीं किया। शब्दों से मनोरंजन करना आदत बन गयी है।
    स्पष्ट करने में स्वाद जाता रहता है।

    उत्तर देंहटाएं

मेरे पाठक मेरे आलोचक

Kavya Therapy

मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
नयी दिल्ली, India
समस्त भारतीय कलाओं में रूचि रखता हूँ.